अमेरिका में पत्रकारों का लहजा अक्सर कड़क ही होता है। अमेरिकी लोकतंत्र में हर पत्रकार खुद को इतना मजबूत और सुरक्षित महसूस करता है कि वो अपने राष्ट्रपति से भी सीधे सवाल पूछ लेता है। वो भी ऐसे सवाल जो राष्ट्रपति को भी मुश्किलों में डाल देता है। इसके बावजूद अमेरिका के नेता पत्रकारों के प्रति अपना रवैया सहज ही रखते हैं। हाल ही में अमेरीकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के एक रिपोर्टर से माफी मांगने का मामला सामने आया है।

अमेरिका की ही एक रिपोर्टर ने जो बाइडेन से एक सवाल पूछा। सवाल जो बाइडेन और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बैठक से जुड़ा था। बाइडेन ने उस सवाल का जवाब दिया। इस पर रिपोर्टर ने एक और सवाल दाग दिया। राष्ट्रपति बाइडेन का लहजा बदल गया और उन्होंने एक अजीब सी व्यक्तिगत टिप्पणी रिपोर्टर पर कर दी।

जो बाइडेन और रिपोर्टर के बीच सवाल-जवाब:
रिपोर्टर– मिस्टर प्रेसिडेंट, आपको इतना विश्वास क्यों है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन अपने व्यवहार में बदलाव लाएंगे?
जो बाइडेन– मैंने ऐसा नहीं कहा कि मुझे विश्वास है कि वो अपना व्यवहार बदलेंगे। ये सब क्या है, आप हमेशा क्या करते रहते हैं? मैंने कब कहा कि मुझे इस बात का यकीन है?

रिपोर्टर– आपने कहा कि अगले छह महीने में आप इस बारे में कुछ कहने की स्थिति में होंगे।
जो बाइडेन– मैंने जो कहा उसे ठीक से समझ लीजिए। मैंने ये कहा कि अगर बाकी देश उनके कदमों पर प्रतिक्रिया देंगे और दुनिया में उनका कद कम होगा तो उनके व्यवहार में बदलाव आएगा। मैंने ऐसा नहीं कहा कि मुझे विश्वास है। मैं सिर्फ तथ्य सामने रख रहा हूं।

रिपोर्टर– लेकिन अतीत को देखें तो उनके व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया है। आपके साथ घंटों बैठने के बाद उस प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने (पुतिन ने) साइबर हमलों से साफ इनकार किया। उन्होंने मानवाधिकार उल्लंघनों की बात को तरजीह ज्यादा नहीं दी। उन्होंने एलेक्सी नवेलनी का नाम तक नहीं लिया। तो फिर ये एक रचनात्मक बैठक कैसे हुई, जैसा कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने दावा किया है?

जो बाइडेन– अगर आप इतना भी नहीं समझ सकते तो आप गलत प्रोफेशन में हैं।

राष्ट्रपति ने मांगी माफी:
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपने आखिरी जवाब के लिए माफी मांगी है। उन्होंने बाद में इस घटना पर कहा कि “मैं अंतिम सवाल पूछने वाली संवाददाता से माफी मांगता हूं। मुझे इस तरह से जवाब नहीं देना चाहिए था। बता दें कि जिन रिपोर्टर के साथ जो बाइडेन का सवाल जवाब हुआ था उनका नाम केटलन कोलिंस है। केटलन कोलिंस CNN चैनल की संवाददाता हैं।

“भारत में क्या होता” पर बहस:
इस घटना की व्याख्या भारत के संदर्भ में की जा रही है। लोग अनुमान लगा रहे हैं कि अगर इस तरह से भारत का कोई रिपोर्टर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से तीखे सवाल पूछ दे तो उसके साथ क्या होता? क्या हमारे प्रधानमंत्री अगर ऐसा जवाब दे देते तो क्या बाद में वो माफी मांगते? हालांकि ये सारे सवाल ही बेतुके हैं। क्योंकि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रेस कांफ्रेंस नहीं करते हैं। इसलिए ऐसी स्थिति कभी पैदा ही नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here