Lalu-Prasad-Yadav-File-Photo-thesecularindia

बिहार विधान परिषद के कुल 9 रिक्त सीटों के लिए नामांकन दाखिल करनेवाले सभी उम्मीदवारों को सोमवार की शाम निर्विरोध विजयी घोषित कर दिया गया. बिहार विधानसभा के अधिकारी बीएन पांडेय ने सभी उम्मीदवारों को जीत का सार्टिफिकेट दिया। बता दे कि बिहार विधान परिषद की नौ सीटों के लिए नामांकन वापसी के अंतिम दिन था।

विधान परिषद की नौ सीटों में से नीतीश कुमार की जेडीयू के खाते मे तीन सीट आयी. इन सीटों पर जदयू की तरफ से कुमुद वर्मा ,प्रोफेसर गुलाम गौस और भीष्म साहनी को जीत का प्रमाणपत्र मिला. तो दूसरी ओर राज्य में जदयू की सत्ता में भागीदारी निभा रही बीजेपी के खाते में दो सीटें आयीं. बीजेपी ने सम्राट चौधरी व संजय मयूख को अपना उम्मीदवार बनाया था. जबकि, मुख्य विपरीत दल राजद ने प्रोफेसर रामबली सिंह, मोहम्मद फारुख और सुनील कुमार सिंह को विधान परिसद का प्रत्याशी बनाया था. इसके साथ ही, कांग्रेस प्रत्याशी समीर कुमार सिंह विधान पार्षद बने. बात दे की तारिक अनवर का नामांकन रद्द हो जाने के कारण पार्टी ने समीर कुमार सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया था।

राज्य के विधान परिषद की नौ विधानसभा सीटों के लिए कराये गये चुनाव के नामांकन वापसी के अंतिम दिन तक नौ उम्मीदवारों ने ही नामांकन पत्र दाखिल किया जिसके कारण, नामांकन वापसी की समय सीमा खत्म होने के बाद इन सभी उम्मीदवारों को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया।

गौर करने वाली बात ये है कि कांग्रेस की ओर से उम्मीदवार समीर कुमार सिंह के पहले कांग्रेस ने तारिक अनवर को उम्मीदवार बनाया था. लेकिन, उनका नाम मतदाता सूची में नहीं होने के कारण उनका नामांकन सूची में से नाम कट दिया गया और कांग्रेस ने बिहार के कार्यकारी अध्यक्ष समीर सिंह को एन वक्त पर अपना उम्मीदवार बना दिया। जिसको लेकर जेडीयू ने विधानसभा में आपत्ति जताई थी परंतु निर्वाचन आयोग ने समीर सिंह का नामांकन सही पाते हुए रद्द नहीं किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here