Delhi-mcd-thesecularindia

वैशविक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप रोकने के लिए देश भर में लॉकडाउन लागू हैं। केन्द्र सरकार के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखकर सभी राज्य सरकारें लॉकडाउन का सख़्ती से पालन करा रहीं हैं। बिना किसी आवयशक काम के किसी को भी घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। ऐसे मुश्किल वक़्त में भी दिल्ली नगर निगम के कोरोना वॉरियर्स पिछले चार महीने से बिना वेतन मिले अपनी जान की परवाह किए बैगर निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा में लगें हुए हैं।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम मजदूर यूनियन के महासचिव सुनील त्यागी ने बताया उद्यान विभाग में कार्यरत कॉन्ट्रैक्ट मालियों को पिछले चार महीने और परमानेंट मालियों को पिछले तीन महीनों से वेतन नहीं मिला हैं। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 714 स्कूल में काम कर रहें 8000 टीचर्स और अभियांत्रिक विभाग के कर्मचारियों को भी पिछले चार महीनों से वेतन नहीं मिला है। अधिकारियों से काफ़ी बार शिकायत करने पर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। हालात इतने ख़राब हो गए हैं के अब कर्मचारि आत्महत्या करने को मज़बूर हैं।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम बीजेपी शासित हैं वही दूसरी तरफ दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार हैं। दोनो ही पार्टी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाने में लगी हैं पर कर्मचारियों की सुनने वाला कोई नहीं है। बीते दिनों दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर उत्तरी दिल्ली नगर निगम का बकाया फंड जल्द से जल्द जारी करने का निवेदन किया था। पर दिल्ली सरकार का कहना है के नगर निगम के सारी बकाया राशि का भुगतान सरकार पहले ही कर चुकी हैं दुख की बात है के भाजपा की मुश्किल वक़्त में भी राजनीति कर रहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here