पुलिस-के-मुताबिक़-जो-गाड़ी-पलटी-उसमे-गाड़ी-में-विकास-दुबे-था-ही-नहीं-thesecularindia

कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी विकास दुबे को यूपी पुलिस और एसटीएफ की टीम ने आज सुबह एनकाउंटर में मार गिराया हैं। विकास दुबे को कल ही उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के परिसर से गिरफ्तार किया गया था। विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद अब यूपी पुलिस पर भी सवाल उठने लगे हैं।

पुलिस के मुताबिक़ जब विकास दुबे को मध्यप्रदेश से कानपुर वापस लाते वक़्त पुलिस काफ़िले की एक गाड़ी अनियंत्रित होकर पलट गई विकास दुबे भी उसी गाड़ी में सवार था। गाड़ी पलटने के बाद विकास ने पुलिसकर्मियों के हत्यार छिन कर भागने की कोशिश की पुलिस के सरेंडर करने के लिए कहने पर उसने पुलिस पर ही फायरिंग कर दी ज़िसके बाद जवाबी कार्यवाही में वह मारा गया।

जिसके बाद से ही अब उत्तरप्रदेश पुलिस सवालों के घेरे में आ गई हैं। दरअसल एनकाउंटर से कुछ देर पहले ही विकास दुबे को ले जा रही पुलिस टीम ने टोल नाका पार किया था जिसमें विकास दुबे एक सफ़ेद रंग की सफ़ारी गाड़ी में बैठा नज़र आ रहा हैं पर पुलिस के मुताबिक़ जो गाड़ी पलटी वो टीयूवी 300 हैं। साथ ही पुलिस ने एनकाउंटर वाली जगह पर कुछ देर पहले ही सभी प्राइवेट गाड़ियों को आवागमन भी रोक दिया था जिसके बाद कुछ मीडियाकर्मियों की पुलिस से कहासुनी भी हुई थी।

पुलिस के अनुसार जिस जगह पर गाड़ी पलटी वहा नही फ़िसलन हैं ना ही सड़क पर कोई गड्ढा था। जिस खेत से पुलिस की छीनी हुई बंदूक बरामद हुई वहा पानी भरा होने के कारण मिट्टी धस गई थी जहाँ एक आम आदमी को चलने में काफ़ी परेशानी होती है विकास दुबे के दोनों ही पैरों में स्टील की रोड़ डली हुई हैं वो लड़खड़ाकर चलता था।

विकास दुबे ने तीन जुलाई को दबिश करने आई पुलिस टीम पर हमला कर दिया था जिसमें डीएसपी देंवेद्र मिश्रा समेत सात अन्य पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। विकास को दबिश करने आ रही पुलिस की जानकारी भी खुद एक पुलिस अधिकारी ने ही दी थी। विकास दुबे को कई बड़े राजनेताओं का संकरक्षण भी प्राप्त था जिस कारण आज तक वह खुलेआम अपराध करता रहा और ना ही उसपर कभी कोई कार्यवाही हुई। आख़िर वो कोन लोग थे जो आज तक उसे बचाते रहें विकास दुबे के साथ ये राज भी हमेशा के लिए दफ़न हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here