representative-image-thesecularindia

दिल्ली में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं और साथ ही टेस्टिंग की संख्या कम होती जा रही है। कम टेस्टिंग करने के कारण सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली की सरकार को फटकार लगाई है।

शुक्रवार को कोरोना वायरस के मसले पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है। अदालत की ओर से कहा गया कि कोरोना के बढ़ते संकट के बावजूद दिल्ली में टेस्टिंग को कम दिया है। दिल्ली में अब रोज सिर्फ पांच हजार के करीब ही टेस्ट हो रहे हैं। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई और चेन्नई जैसे शहरों का उदाहरण भी दिया।

साथ ही अगर दिल्ली और मुंबई के टेस्टिंग और कुल कोरोना वायरस के आंकड़ों को देखें, तो टेस्टिंग के मामले में दिल्ली आगे दिखती है। जबकि अगर राज्यों के आधार पर तुलना करेंगे तो महाराष्ट्र दिल्ली से काफी आगे है। दिल्ली में रोज करीब 5500 के आसपास टेस्ट हो रहे हैं, साथ ही मुंबई में भी लगभग इतने ही टेस्ट हो किए जा रहे है।

दिल्ली सरकार की ओर से गुरुवार को मेडिकल बुलेटिन के अनुसार दिल्ली में 11 जून तक कुल 271516 टेस्ट हो चुके हैं और पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 5300 के करीब टेस्ट हुए थे।

BMC की ओर से मुंबई के आंकड़े रोज जारी किए जाते हैं, उनके अनुसार 11 जून तक सिर्फ मुंबई में करीब ढाई लाख टेस्ट किए जा चुके हैं। इसके अलावा मुंबई में भी रोज 4 से पांच हजार एवरेज टेस्ट हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here